A Great Sex Story in Hindi - Tony - E-Book

A Great Sex Story in Hindi E-Book

Tony

0,0
0,49 €

oder
Beschreibung

This story is written in hindi. The story is written about the sexual life and desires of a young boy. The boy makes physical relations with many girls in his youth. He wants to pee for a long time. But he doesn't see a urinal anywhere on the road. He is getting very angry because in such a big city he does not see the urinal anywhere. Along with increasing anger, the pressure on his cock is also increasing. When he doesn't see any urinal even after searching for 15 minutes, he decides that he will go to the side of the road and urinate. He goes to one side of the road to do so. It was 9 o'clock in the morning so very few people could be seen on the road. As soon as Ramesh felt that the road was completely empty, no one on the road was seeing him - he took out his 6.3 inch long cock from his trousers. His cock had become tight due to the blowing of cold winds. As he started urinating, two girls on a scooty came hurriedly towards him. One of the girls, who was sitting on the back seat of the scooty, clicked 4-5 naked photos of Ramesh in her mobile. In one photo, Ramesh's 6.3 inch long cock and his face were clearly visible. Both the girls clicked photos of Ramesh and left the place with laughing. Ramesh had done half the urine peacefully. He released rest of the urine in his trousers because when he saw those girls, he had quickly put his cock in his trousers back. Now his trousers was wet. He could not go to college wearing such wet trousers.

Das E-Book können Sie in Legimi-Apps oder einer beliebigen App lesen, die das folgende Format unterstützen:

EPUB
Bewertungen
0,0
0
0
0
0
0



Inhaltsverzeichnis

अध्याय 1

अध्याय 2

अध्याय 3

अध्याय 4

अध्याय 5

Impressum

A Great Sex Story

18+ Only

Tony

©2021 Tony.

All rights reserved. No part of this publication may be reproduced, stored in a retrieval system, or transmitted in any form or by any means, electronic, mechanical, photocopying, recording, or otherwise, without prior written permission of the publisher.

अध्याय 1

रमेश ने अपनी मास्टर्स की डिग्री पूरी करने के लिए एक बड़े शहर के कॉलेज को चुना | आज कॉलेज का पहला दिन है | रमेश का घर उसके कॉलेज से लगभग 13 किलोमीटर दूर है | अतः वह एक बस से ही शहर आया था | रमेश का कॉलेज बस-स्टैंड से 3 किलोमीटर दूर था | बस-स्टैंड से कॉलेज तक पहुँचने के लिए एक ऑटो-रिक्शा में जाना पड़ता था | अथवा दूसरा फ्री विकल्प था - पैदल चलकर कॉलेज जाओ और कंजूस की तरह पैसे बचाओ | रमेश के पास कॉलेज जाने के लिए पर्याप्त पैसे थे | लेकिन वह मूत्रालय जाना चाहता है |

वह बहुत देर से पेशाब करना चाहता है | लेकिन उसे सड़क पर कहीं भी पेशाबघर नहीं दिखता है | उसे बहुत गुस्सा आ रहा है क्युकि इतने बड़े शहर में उसे कहीं भी पेशाबघर नहीं दिखता है | गुस्सा बढ़ने के साथ-साथ उसके लंड पर दबाव भी बढ़ रहा है | 15 मिनट्स तक ढूंढने पर भी उसे जब कोई भी पेशाबघर नहीं दिखता तो वह निर्णय लेता है कि वह रोड पर साइड में जाकर पेशाब करेगा | वह ऐसा करने के लिए सड़क के एक किनारे पर चला जाता है | सुबह के 9 बजे थे इसलिए सड़क पर ज्यादा लोग दिखाई नहीं दे रहे थे | जैसे ही रमेश को लगा की सड़क अब पूरी तरह खाली हो गयी है , सड़क पर कोई व्यक्ति उसे नहीं देख रहा - तो वह अपना 6.3 इंच लम्बा लंड अपने पेंट से बाहर निकाल लेता है | उसका लंड ठंडी हवाओं के चलने के कारण टाइट पड़ चुका था | जैसे ही उसने पेशाब करना शुरू किया , एक स्कूटी पर बैठकर दो लड़कियाँ तेज़ी से उसकी तरफ आयी | उनमें से एक लड़की , जो स्कूटी के पीछे बैठी थी - उसने रमेश के 4-5 नंगे फोटो खिंच लिए | एक फोटो में रमेश का 6.3 इंच लम्बा लंड और उसका चेहरा स्पष्ट दिखाई दे रहा था | दोनों लड़कियाँ फोटो खींचकर हँसते-हँसते वहाँ से निकल गयी | रमेश ने आधा पेशाब शांति से किया था | आधा पेशाब उसने अपने पेंट में कर दिया क्युकी जब उसने पेशाब करते हुए उन लड़कियों को देखा था तो उसने तेज़ी से अपना लंड अपने पेंट में डाल दिया था | अब उसकी पेंट गीली हो चुकी थी | ऐसी गीली पेंट पहनकर वह कॉलेज नहीं जा सकता था |

रमेश को सबसे पहले अपना पैंट सुखाना था | कॉलेज अभी 10 बजे शुरू होने वाला था | अभी सिर्फ 9 बजकर 15 मिनट्स हुए थे | रमेश के पास 45 मिनट्स बचे थे उस पैंट को सुखाकर कॉलेज पहुँचने के लिए | उसने एक धोबी को ढूँढना शुरू किया | खुशकिस्मती से उसे एक धोबी मिल भी गया | उसने धोबी को कहा की इस पैंट को जल्दी से धोकर इस पर प्रेस करके वापस सुखाओ | धोबी पहले से ही दूसरा काम कर रहा था इसलिए उसने रमेश से उसका कार्य पूरा करने के एवज में 5 गुणी कीमत वसूल की | रमेश का पैंट 30 मिनट्स में पहनने के लिए तैयार हो गया | उस पैंट से बदबू ना आये , इसके लिए उसने पुरे पैंट और अपने लंड पर परफ्यूम छिड़क दिया था | जैसे-तैसे वह 10 बजे तक कॉलेज पहुँच गया |

जब वह कॉलेज पहुँचा तो उसे पता चला कि वो दोनों लड़कियाँ उसी की क्लास की है | अब तो रमेश कहीं भी मुँह दिखाने के लायक नहीं रहा | सब लड़के-लड़कियाँ एक-दूसरे से परिचय कर रहे थे | सभी नए कपडे पहनकर कॉलेज आये थे जिसे देखकर ऐसा लग रहा था की ये सब शादी के लिए नया पार्टनर ढूंढने आये है | रमेश ने भी सभी लड़के-लड़कियों से अपना परिचय किया | अंत में वह उन दोनों लड़कियों के पास भी गया | जिस लड़की ने उसकी नंगी तस्वीरें क्लिक की थी , उसका नाम था सोफिया | सोफिया लगभग 5 फुट लम्बी बहुत ही खूबसूरत लड़की थी | उसके शरीर का रंग गौरा था , उसके बाल भूरे थे , उसकी छाती बहुत ही खूबसूरत थी , उसके स्तन मजबूत और उभरे हुए थे , उसके स्तन में थोड़ा भी ढीलापन नहीं था | सोफिया से रमेश का परिचय बहुत अच्छे से हुआ |

रमेश लगभग 6 फुट का गोरे शरीर वाला लड़का है | उसके लम्बे-लम्बे बाल है | उसे देखकर कोई भी अनुमान लगा सकता है की वह एक आवारा लड़का है | स्नातक करते हुए भी उसके कई काण्ड सामने आ गए थे , इसलिए उसके बाप ने उसे दूसरे शहर के एक कॉलेज में पढ़ने के लिए भेज दिया |

जब सभी लड़के-लड़कियों ने एक दूसरे का परिचय ले लिया , तब सब ने यह तय किया की वो क्लास का एक ऑनलाइन ग्रुप बनाएंगे | सभी इस बात से सहमत हो गए | किसी ने रमेश और सोफिया को भी उस ग्रुप में जोड़ दिया |कॉलेज का पहला दिन था इसलिए ज्यादा क्लासेस नहीं हुयी और सभी विद्यार्थी अपने-अपने घर चले गए |

रमेश घर आने के लिए एक बस में बैठ गया | वह बस में एक खिड़की वाली सीट पर बैठा था | तभी बस में तेज़ी से लोग चढ़ने लगे और धीरे-धीरे बस सवारियों से भर गयी | रमेश के बगल वाली सीट पर एक जवान लड़की आकर बैठ गयी | वह लड़की बहुत खूबसूरत थी | उसने चश्मा पहन रखा था | उसके हर स्तन का आकार उसके सिर के आकार से भी बड़ा था | उसे देखकर रमेश की इच्छा हुयी की वह उस लड़की के दोनों स्तनों को दबाना चालू कर दे | लेकिन बस में बहुत भीड़ थी | उसे डर था की अगर उसने लड़की के स्तनों को छुआ और लड़की ने इसका विरोध कर दिया तो उसकी पिटाई हो जायेगी और पुलिस केस बन जाएगा |

अतः उसने निश्चय किया कि वह पहले पता लगाएगा की लड़की भी ऐसा करने में इंटरेस्टेड है या नहीं | सबसे पहले उसने अपने पाँव , जंघा और कूल्हे लड़की के पाँव , जंघा और कूल्हे से टच कर लिए | लड़की के चेहरे पर कोई भाव नहीं आये |

इसके बाद उसने अपने बायें हाथ की कोहनी से लड़की के स्तन को दबाने की कोशिश की | लड़की ने कोई विरोध नहीं किया |

इससे रमेश बहुत ज्यादा उत्साहित हो गया | उसने अपने बाएं हाथ की कोहनी को लड़की के दोनों स्तनों पर सहलाना चालू कर दिया | लड़की के चेहरे पर कोई भाव नहीं थे | इससे रमेश का उत्साह और बढ़ गया | उसने लड़की के दोनों स्तनों को अपने दोनों हाथों से दबाना चालू कर दिया | वह उन दोनों कोमल स्तनों को लगातार दबाता ही जा रहा था | लड़की के चेहरे पर अभी भी कोई भाव नहीं था |

अब रमेश और ज्यादा जोश में आ गया | उसने अपना बांया हाथ लड़की की अंडरवियर में डाल दिया | रमेश ने अपने हाथ से लड़की की चुत को सहलाना चालू कर दिया | अब लड़की ने पहली बार रमेश की तरफ मुड़कर देखा | लड़की ने रमेश का हाथ अपनी अंडरवियर से बाहर निकाल दिया | लड़की चारों तरफ बस में देख रही थी की कोई उसे देख ना ले | रमेश बहुत ज्यादा जोश में था | उसने वापस लड़की की अंडरवियर में अपना हाथ डाल दिया | वह अपनी सीट से थोड़ा निचे झुक गया ताकि कोई उसे देख ना ले |

लड़की ने एक बार फिर अपनी अंडरवियर से रमेश का हाथ निकाल दिया | लड़की ने जल्दी-जल्दी अपने कपडे सही किये , अपना बैग उठाया और बस के गेट पर चली गयी | जैसे ही बस-स्टैंड पर बस रुकी , वह लड़की बस से उतर गयी | रमेश के अरमान अधूरे ही रह गए |

जैसे-तैसे रमेश घर पहुँच गया | उसका पहला दिन बहुत ही रोमांचक था |

अब शाम की 8 बज गयी थी | रमेश ने खाना खाया और अपने कमरे में चला गया | उसने अपने कमरे को अंदर से बंद कर दिया | उसने कमरे की लाइट बंद कर दी | वह अपने बेड पर चला गया | रमेश हर रोज़ इस वक़्त पोर्न वीडियो देखता था | वह इसीलिए कमरे की लाइट बंद रखता था | वह पोर्न वीडियो देखते-देखते हस्तमैथुन करता था |

लेकिन आज जैसे ही उसने अपना फ़ोन चालू किया तो उसने देखा की उसकी क्लास के ग्रुप में बहुत सारे मैसेज आये हुए है | इन मैसेज की संख्या 200 से ज्यादा थी | इसीलिए रमेश को लगा की आज कोई ना कोई जरुरी सुचना ग्रुप में आयी है | इसलिए उसने ग्रुप के मैसेज देखना चालू किया |

पहला मैसेज सोफ़िया का था | उसने रमेश की सभी नंगी तस्वीरें ग्रुप में डाल दी थी | बाकी के सभी मैसेज में रमेश का मज़ाक बनाया जा रहा था | अब तक क्लास के सभी लड़के-लड़कियों ने रमेश का 6.

---ENDE DER LESEPROBE---